रविवार, 10 अक्तूबर 2010

aao aao natak dekho.....

संचार के  पहले  माध्यम परम्परागत माध्यम   ही रहे है जिनके माध्यम से हम एक दुसरे से अपने ज्ञान, विचार को एक दुसरे तक आदान प्रदान करते   रहे है 

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपका ब्लॉग देख कर अच्छा लग रहा है. कृपया लिखते रहें क्योंकि आपने पहली ही पोस्ट सुन्दर लिखी है. संचार का जोरदार माध्यम है ब्लॉग....

    उत्तर देंहटाएं
  2. और नाटक नौटंकी तो लगी रहती है, यही मजे है जिन्दगी के... मजे लें...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपलोग इस देश के असल मालिक हैं..आगे बढिए और इस ब्लॉग के माध्यम से देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से इस देश की दुर्दशा का कारण का जवाब मांगिये...कोमनवेल्थ गेम में हुए भ्रष्टाचार का हिसाब मांगिये ...ब्लॉग आपके आवाज को पूरे देश के लोगों तक पहुंचाएगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी को खासकर इमानदार इंसान बनने के लिए संघर्षरत लोगों को दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं
  5. surendra ji aap ko badhayee ho
    aapka blog achha hai...
    aashaa hai isi tarah post karte rahenge ....

    उत्तर देंहटाएं